CBI चारा घोटाला मामला : लालू प्रसाद से जुड़े चारा कांड संख्या आरसी 47 ए/ 96 मामले में 15 फरवरी को फैसला आएगा, दो दिन पहले राँची पहुंचे लालू ।

Spread the love

लालू राज में स्कूटर से ढोए गए सांड़, मुश्किल में फिर राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद

जानिए पूरा मामला,डोरंडा कोषागार से 139.35 करोड़ रुपये से अधिक की अवैध निकासी मामले में लालू समेत 99 आरोपी ट्रायल फेस कर रहे हैं।

लखनऊ / राँची – बिहार झारखंड के चर्चित चारा घोटाला के एक मामले में सीबीआई न्यायालय में सशरीर हाजिर होने के लिए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद रांची पहुंच गये हैं. लालू प्रसाद यादव रविवार को पटना से दोपहर में विमान से रांची पहुंचे।उनके साथ भोला यादव समेत अन्य नेता भी आये हैं. राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के रांची आगमन पर प्रदेश राजद के नेता बड़ी बेशर्मई से बैंड बाजा के साथ बड़ी संख्या में एयरपोर्ट पर पहुंचे थे। वहां मौजूद कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी कर अपने नेता का स्वागत किया। अब सबकी निगाहें कोर्ट के फैसले पर टिकी है। चारा घोटाला अपने आप में अनोखा घोटाला है, जिसमें कई टन पशु चारा और गाय-भैंस स्कूटर पर ढ़ोने की फर्जी कहानी रची गई।

950 करोड़ का यह घोटाला डोरंडा ट्रेजरी से जुड़ा है। डोरंडा ट्रेजरी से अवैध निकासी मामले में कोर्ट ने लालू सहित 99 आरोपियों को कोर्ट में उपस्थित रहने को कहा है। लालू इसी मामले में जमानत पर अभी बाहर हैं। इस घोटाले में कई चौंकाने वाले मामले सामने आए। जिसमें पशुओं को फर्जी रूप से स्कूटर और मोटरसाइकिल पर ढ़ोने की कहानी शामिल है. मामला 1990-92 के बीच का है।

अफसरों और नेताओं ने फर्जीवाड़ा की नई कहानी ही लिख दी। फर्जीवाड़ा कर बताया गया कि 400 सांड़ को हरियाणा और दिल्ली से स्कूटर और मोटरसाइकिल पर रांची तक ढोया गया।यानी घोटाले में जिस गाड़ी नंबर को विभाग ने पशु को लाने के लिए दर्शाया था, वे मोटसाइकिल और स्कूटर के नंबर निकले। सीबीआई ने जांच में पयाा कि कई टन पशुचारा, पीली मकई, बादाम, खल्ली, नमक आदि ढोने के लिए स्कूटर, मोटरसाइकिल और मोपेड का नंबर दिया गया था।

इसमें मंत्री कर्मचारी सब शामिल सीबीआई ने कहा था…

सीबीआई ने जांच में कहा था कि ये व्यापक षड्यंत्र का मामला है। इसमें राज्य के नेता, कर्मचारी और व्यापारी सब भागीदार थे. इस मामले में बिहार के एक और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र समेत राज्य के कई मंत्री गिरफ्तार किए गए थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *